DMCA.com Protection Status Motivational story in hindi । moral story in hindi

Motivational story in hindi । moral story in hindi

Motivational story in hindi

एक बार की बात है एक क्लास रूम के अंदर एक बहुत ही ज्यादा नालायक बच्चा होता है। पढ़ाई लिखाई नहीं करता और उसकी जो टीचर्स होती है वह भी उसे बहुत कोसती है कि तू कुछ बनेगा भी नहीं है। जिंदगी में कुछ करेगा भी नहीं और उस लड़के को भी ऐसे ही लगता है कि भई मैं किसी काबिल नहीं हूं, कुछ कर नहीं सकता । मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता । तो एक बार वो स्कूल से वापस जा रहा होता है अपने घर की तरफ, उसे प्यास लगती है बहुत तेज प्यास लगती है तो वह रुक जाता है एक कुएं के पास अब। 

Motivational story in hindi
Motivational Story

अब वो कुए के पास रुक जाता है तो नीचे बाल्टी डालता है रस्सी से और पानी को बाहर निकालता है। पर जब वह पानी को बाहर निकाल रहा होता है, वह क्या देखता हैं , कि एक रस्सी है उसमें छोटे-छोटे रेशे हैं और वो रस्सी इस कुएं के साथ रगड़ रगड़ के  कुवा जो है वह पत्थर से बना हुआ है। और रगड़ रगड़ के इस रस्सी इस कुवे को जो पत्थर हैं इसके ऊपर निशान छोड़ दी है। इसके ऊपर अपनी छाप छोड़ दी है। अपनी पहचान छोड़ दी है और पत्थर को घिस रही है रस्सी । रस्सी शायद उतना मजबूत नहीं है जितना की यह पत्थर है, पर बार-बार बार-बार बार-बार जब इस पत्थर पे इस रस्सी की चोट पड़ रही है तो यह अपनी पहचान छोड़ रही है । चाहे कितनी ही कमजोर हो इस पत्थर से पर वास्तविक में रस्सी पत्थर को घिस रही है। उसे लगता है हो सकता है मैं नालायक हूं। मैं किसी लायक नहीं हूं। लोग मेरे से बहुत बेहतर हो वह पत्थर हो । मैं वो रस्सी हूं पर अगर मैं लगा रहूंगा लगा रहूंगा लगा रहूंगा जैसी रस्सी लगी रहती है। तो मैं अपनी पहचान अपनी छाप जरूर छोडूंगा।


कथा सार -

छोटी छोटी चीजें होती है जो जिंदगी में हमें इंस्पायर कर देती है सिर्फ वो मैसेज अगर हमें समझ आ जाए और हो सकता है इसी मैसेज के माध्यम से आपको बहुत कुछ जानने को मिले । अगर आज आपको लगता है कि आप किसी काबिल नही हो तो ऐसा नही है। आप किसी भी काम को अगर लगातार करते रहोगे तो आप उस क्षेत्र में महारथ हासिल कर सकते हो। आपने कही सुना है कि एक डॉक्टर पैदा हो गया। एक इंजीनियर पैदा हो गया। एक क्रिकेटर पैदा हो गया। जन्म से किसी में प्रतिभा नही होती। कुछ लोग लगातार किसी काम को करके अपने काम में महारथ हासिल कर लेते है । आज सचिन तेंदुलकर मेहनत करके ही मास्टर ब्लास्टर कहलाते है। अगर आज आप इस पोस्ट को पढ़ रहे हो तो मैं निश्चित कहता हूं कि आपमें बहुत प्रतिभा है। बस आप लगातार प्रयास करते हो।

Dosto is post me maine motivational story ke bare me btaya hai .

Post a Comment

0 Comments